हेल्थ

Urine Disease: यूरिन में आती बदबू है इन घातक बीमारियों का इशारा, इन लापरवाहियों के चलते सेहत न लौटकर आएगी दोबारा

मूत्र रोग: सार्वजनिक शौचालय जैसी जगहों पर जहां अधिक लोग पेशाब करते हैं, वहां कभी-कभी इतनी दुर्गंध आती है कि सहन करना मुश्किल हो जाता है। पेशाब से दुर्गंध आना काफी सामान्य माना जाता है, लेकिन कई बार इसकी दुर्गंध कई गंभीर और जानलेवा बीमारियों का संकेत भी हो सकती है। खराब पेशाब (मूत्र की गंध) के कई कारण हो सकते हैं। आज हम इन्हीं कारणों के बारे में बात करेंगे।

यूटीआई- महिलाओं में यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन एक आम समस्या है। यह समस्या तब मिलनी चाहिए जब बैक्टीरिया मूत्र पथ को संक्रमित कर दें। यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन किडनी, ब्लैडर और इससे जुड़ी ट्यूब्स को भी प्रभावित कर सकता है। अगर समय पर जांच नहीं की गई तो संक्रमण किडनी में भी फैल सकता है।

कम पानी पिएं हमारे शरीर के अपशिष्ट उत्पाद मूत्र में उत्सर्जित होते हैं। ऐसे में जब आप पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन नहीं करते हैं तो यह अपशिष्ट पदार्थ आसानी से नहीं निकल पाता है, जिससे पेशाब में बहुत दुर्गंध आती है। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा पानी पीना जरूरी है।

कॉफी का अत्यधिक सेवन ज्यादा कॉफी पीने से पेशाब में दुर्गंध आने लगती है। कॉफी को डिहाइड्रेशन की समस्या का भी सामना करना पड़ता है, जिससे आपके पेशाब से दुर्गंध आ सकती है।

मधुमेह- जिन लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती है कि उन्हें डायबिटीज है, उन्हें भी यूरिन से दुर्गंध आ सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मधुमेह के रोगियों का शरीर चीनी को पचा नहीं पाता है। इस वजह से उनके पेशाब से दुर्गंध आती है। मधुमेह रोगियों को अक्सर पेशाब आता है और यह भी इसका एक लक्षण है।

एसटीआई- खराब मूत्र के मुख्य कारणों में से एक यौन संचारित संक्रमण या यौन संचारित रोग हो सकते हैं। कभी-कभी ये संक्रमण मूत्रमार्ग में सूजन पैदा कर सकते हैं जो मूत्र की गंध को बदल सकते हैं। एसटीआई के अलावा महिलाओं के प्राइवेट पार्ट में जलन के कारण भी यूरिन से दुर्गंध आने लगती है।

फफुंदीय संक्रमण कैंडिडा नामक कवक आमतौर पर हमारी त्वचा पर पाया जाता है। यह फंगस महिलाओं के प्राइवेट पार्ट समेत शरीर के किसी भी हिस्से में पाया जा सकता है। जब यह फंगस बहुत अधिक मात्रा में पैदा होता है तो शरीर में कई तरह की समस्याएं देखने को मिलती हैं।

फंगल इंफेक्शन बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं जैसे गीले कपड़े पहनना या गंदगी में रहना आदि। पुरुषों की तुलना में महिलाओं को फंगल इंफेक्शन की समस्या का ज्यादा सामना करना पड़ता है, जिससे पेशाब करते समय दुर्गंध आने लगती है। निजी क्षेत्र में लालिमा, सूजन और सफेद निर्वहन जैसे अन्य लक्षण भी होते हैं। फंगल इंफेक्शन के लक्षण पुरुषों में भी पाए जाते हैं, लेकिन ये उतने गंभीर नहीं होते जितने महिलाओं में होते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: